Webseries Review - Aashram 2 - MX Player


निर्देशक: प्रकाश झा

कलाकार: बॉबी देओल, अदिति पोहनकर, चंदन रॉय सान्याल, दर्शन कुमार, अनुप्रिया गोयनका

Aashram-2-review

आश्रम का दूसरा पाठ उस जगह से शुरू होता है जहाँ से इसका पहला पाठ खत्म हुआ था।अब बाबा दिन के हिसाब से नास्तिक हो गए हैं और रात को राजनेता लालची हो गए हैं। इसके अलावा, अब कुछ पीड़ितों ने भी अपने कदम बदला लेने के लिए निकाल लिए हैं। अब आपको देखना है कि क्या यह एक युग का अंत है या फिर से एक नई शुरुआत?

Aashram-2-plot

काशीपुर वाले बाबा निराला जी महाराज (बॉबी देओल) के क्षत्रछाया में आतंक जारी है और इस बार तो पहले से कहीं अधिक दिखाया गया है। बाबा का सिर पर हाथ होने की वजह से भोपा (चंदन रॉय सान्याल) को कोई रोक नहीं सकता। बबीता (त्रिधा चौधरी) अब एक बदली हुई औरत है और पम्मी (अदिति पोहनकर) का भी जीवन अब पूरी तरह से बदल गया है। दूसरी ओर पूरे पहले सीजन में मौन रहने वाले सनोबर और कविता अब अपनी पिछली कहानियों को बताने का साहस जुटा रहे हैं। डॉ नताशा कटारिया (अनुप्रिया गोयनका) और अक्की (राजीव सिद्धार्थ) के साथ मिशन की अगुवाई में उजागर सिंह (दर्शन कुमार) हैं। इस क्राइम-ड्रामा सीरीज के दूसरे सीजन में बाबा द्वारा यौन शोषण और ड्रग्स को बढ़ावा देने की कहानी है।

Aashram-2-cast

जहाँ पहले सीजन को सामाजिक बुराइयों के ढेर सारे उदाहरणों को साथ जोड़कर देखा जा रहा था वहीं इस नए सीजन में प्रकाश झा मुख्यरूप से दो मुद्दों पर ध्यान केंद्रित करते हैं और दोनों ही काफी खतरनाक और प्रभावशाली हैं। बाबा अपनी तिरछी आँखों के साथ सामान्य शांत मुद्रा में कहर ढा रहे हैं, वहीं भोपा अपनी तेज जुबान के साथ सभी को गाली देकर डर पैदा करता है।

Aashram-2-bobby-deol

आश्रम 2 में परफॉरमेंस की बात करें तो 'काशीपुर वाले बाबा' बॉबी देओल अभी भी सबसे अच्छे हैं। 'भोपा स्वामी' चंदन रॉय सान्याल गुर्गे निकले, जहाँ उनकी समझदारी जवाब दे रही है। दर्शन कुमार एक अंडरकवर नशेड़ी हैं और न्याय के लिए उनकी लड़ाई देखने लायक है। राजीव सिद्धार्थ इस बार और उभर के आते हैं, जो उनके लिए अच्छा है। महिलाओं में विशेष रूप से अदिति और ​​त्रिधा एक-दूसरे के सामने टूटने वाले दृश्यों को प्रस्तुत करती हैं। अनुप्रिया गोयनका भी दोषियों को सामने लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। दूसरी ओर, आद्यामन सुमन बाबा के सहयोगी रॉकस्टार के रूप में हैं, जो ज्यादा कुछ करने की हालत में नहीं है।


वैसे तो इसमें कहानी वही आगे बढ़ती है बस दिशा थोड़ी बदल गयी है। आश्रम 2 की कहानी इत्मीनान से चलती है। सभी नौ एपिसोड लगभग 30 से 35 मिनट के और देखने योग्य हैं। इसलिए पहला पाठ पढ़ने के बाद अपनी आत्मा की शांति के लिए दूसरा पाठ भी जरूर पढ़ें।
'जपनाम!'





Movies and Webseries in November



आपको यहां और जानकारी मिलता जाएगा...

 www.reviewguys.in


जुड़िये हमसे टेलीग्राम के जरिए

https://t.me/reviewguys

Post a Comment

0 Comments